क्रोध

क्रोध

0

एक निश्चित सीमा में रहकर क्रोध करना मनुष्य के अस्तित्व की रक्षा के लिए आवश्यक है।

Read More : क्रोध
Courtesy : Jagran – Apni Baat

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.