जातिवाद की कुरीति पर रोने के बजाय, उसकी समाप्ति के लिए उठाए जाएं कदम

    0

    अखंड भारत का सपना जातिगत भेदभाव या जातिवाद की संकरी गलियों से नहीं निकलता। इसके लिए सबको अपने अहं छोड़ कर खुले में आना होगा।

    Read More : जातिवाद की कुरीति पर रोने के बजाय, उसकी समाप्ति के लिए उठाए जाएं कदम
    Courtesy : Jagran – Apni Baat

    Leave a Reply

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.