प्रार्थना

प्रार्थना

0

प्रार्थना मनुष्य की आत्मा का भोजन है। इसे जीवन का अनिवार्य अंग होना चाहिए। आत्मबल की उपलब्धि इसके बिना संभव भी नहीं।

Read More : प्रार्थना
Courtesy : Jagran – Apni Baat

LEAVE A REPLY