बराबरी का सफर

बराबरी का सफर

0

सचमुच यह आंकड़ा चौंकाने वाला है कि तीस हजार ट्रैकमैन बरसों से अधिकारियों के घरों पर घरेलू नौकरों की तरह काम रहे हैं, जबकि उनका वेतन विभाग से दिया जा रहा।

The post बराबरी का सफर appeared first on Jansatta.

Read More : बराबरी का सफर
Courtesy : Jansatta – editorials

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.