लोकतंत्र के मायाजाल में सत्ता, प्रशासन और शासन का भ्रमजाल

लोकतंत्र के मायाजाल में सत्ता, प्रशासन और शासन का भ्रमजाल

0

प्रत्येक पटाक्षेप के उपरांत जब पर्दा उठता है तो कलाकार बदलते हैं, पटकथा के साथ ही पात्र वही रहते हैं।

Read More : लोकतंत्र के मायाजाल में सत्ता, प्रशासन और शासन का भ्रमजाल
Courtesy : Jagran – Apni Baat

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.