वैराग्य

वैराग्य

0

स्वार्थ का शालीन नाम ‘मोह’ है। हम सभी परस्पर स्वार्थ से जुड़ते हैं। इसी कारण उनके प्रति मोह रहता है।

Read More : वैराग्य
Courtesy : Jagran – Apni Baat

LEAVE A REPLY

nineteen − fifteen =