समृद्धि और प्रकाश की पोषक परंपरा है दिवाली

समृद्धि और प्रकाश की पोषक परंपरा है दिवाली

0

भारतीय परंपरा में दीपपर्व की निरंतरता है। सातवीं शताब्दी के संस्कृत नाटक नागनंद में इसे ‘दीपप्रति पादुत्सव’ कहा गया है।

Read More : समृद्धि और प्रकाश की पोषक परंपरा है दिवाली
Courtesy : Jagran – Apni Baat

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.