सामाजिकता का सिमटता दायरा: अपने और पराए के बीच विभाजन करती सीमा...

सामाजिकता का सिमटता दायरा: अपने और पराए के बीच विभाजन करती सीमा रेखाओं की खास भूमिका

0

व्यापक स्तर पर नस्ल, व्यवसाय, जाति आदि के आधार पर लोग आकर्षित और विकर्षित होते हैं। साथ ही राजनीतिक-सांस्कृतिक गठजोड़ भी समावेश और बहिष्कार के लिए हैं।

Read More : सामाजिकता का सिमटता दायरा: अपने और पराए के बीच विभाजन करती सीमा रेखाओं की खास भूमिका
Courtesy : Jagran – Apni Baat

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.