हम सबके वैभव का उत्सव

हम सबके वैभव का उत्सव

0

दीयों की पंक्तियां औप प्रकाश के किस्म-किस्म के पुंज दीपावली की आभा रचते हैं। पंक्तिबद्ध होने में जो लय है वही तो पृथ्वी की उजास है।

Read More : हम सबके वैभव का उत्सव
Courtesy : Jagran – Apni Baat

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.